कोवैक्सिन में गाय के बछड़े का सीरम!: कांग्रेस नेता ने शेयर किया RTI का जवाब, बोले- मोदी सरकार को पहले बताना था कि वैक्सीन के लिए बछड़े मारे जा रहे

कोवैक्सिन में गाय के बछड़े का सीरम!: कांग्रेस नेता ने शेयर किया RTI का जवाब, बोले- मोदी सरकार को पहले बताना था कि वैक्सीन के लिए बछड़े मारे जा रहे

Spread the love

कांग्रेस नेता ने दावा किया है कि कोवैक्सिन के लिए सीरम निकालने के लिए 20 दिन के बछड़े की हत्या की जाती है।

कोवैक्सिन बनाने में गाय के बछड़े के सीरम का इस्तेमाल किया जाता है। इसके लिए 20 दिन से भी कम के बछड़े की हत्या की जाती है। ये दावा कांग्रेस के नेशनल कॉर्डिनेटर गौरव पांधी ने बुधवार को किया है। पांधी ने एक RTI के जवाब में मिले दस्तावेज शेयर किए। उन्होंने दावा किया है कि यह जवाब विकास पाटनी नाम के व्यक्ति की RTI पर सेंट्रल ड्रग्स स्टैंडर्ड कंट्रोल ऑर्गेनाइजेशन (CDSCO) ने दिया है।

मोदी सरकार ने लोगों को धोखे में रखा
बछड़े के सीरम का उपयोग विरो सेल्स के रिवाइवल प्रोसेस के लिए किया जाता है। इसका इस्तेमाल कोवैक्सिन बनाने के लिए किया जा रहा है। पांधी ने कहा कि नरेंद्र मोदी सरकार ने मान लिया है कि भारत बायोटेक की वैक्सीन में गाय के बछड़े का सीरम शामिल है। यह बहुत बुरा है। इस जानकारी को पहले ही लोगों को बताया जाना चाहिए था।

रिसर्च पेपर में भी किया गया था दावा
इससे पहले एक रिसर्च पेपर में भी दावा किया गया था कि कोवैक्सिन बनाने के लिए नवजात पशु के ब्लड का सीरम उपयोग किया जाता है। इसे पहली बार किसी वैक्सीन में उपयोग नहीं किया जा रहा है। यह सभी बायोलॉजिकल रिसर्च का जरूरी हिस्सा होता है।

रिसर्च में दावा किया गया था कि कोवैक्सिन के लिए नवजात बछड़े के 5% से 10% सीरम के साथ डलबेको के मॉडिफाइड ईगल मीडियम (DMEM) को इस्तेमाल किया जाता है। DMEM में कई जरूरी पोषक होते हैं, जो सेल को बांटने के लिए जरूरी होते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *