गुजरात सरकार का बड़ा फैसला: ‘मां अमृतम् वात्सल्य’ कार्ड की वैलेडिटी 31 जुलाई तक बढ़ाई गई, अबसे परिवार के हर सदस्य का अलग-अलग होगा कार्ड

गुजरात सरकार का बड़ा फैसला: ‘मां अमृतम् वात्सल्य’ कार्ड की वैलेडिटी 31 जुलाई तक बढ़ाई गई, अबसे परिवार के हर सदस्य का अलग-अलग होगा कार्ड

Spread the love

उप-मुख्यमंत्री नितिन पटेल।

कोरोना काल में मरीजों के इलाज के लिए ‘मा अमृतम् वात्सल्य’ कार्ड की काफी उपयोगिता रही। इससे लोगों को निजी अस्पतालों में भी 5 लाख रुपए तक के मुफ्त इलाज की सुविधा मिली। हालांकि, एक वर्ष के लिए तय इसकी वैलिडिटी 31 जून को खत्म हो रही थी। लेकिन कोरोना की स्थिति को देखते हुए राज्य सरकार ने यह अवधि 31 जुलाई तक बढ़ा दी है। उप-मुख्यमंत्री नितिन पटेल ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में इसकी घोषणा की।

परिवार के हर सदस्य के लिए अलग कार्ड होगा
इसके साथ ही राज्य सरकार ने इस कार्ड को लेकर एक बड़ा फैसला यह किया है कि अबसे परिवार के हर सदस्य के लिए कार्ड अलग-अलग होगा। अभी तक पूरे परिवार के लिए एक ही कार्ड बनता था, जिससे परिवार के सदस्यों को कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ता था। यह कार्ड अब किसी भी सरकारी अस्पताल से इश्यू कराए जा सकेंगे। शासकीय अस्पतालों को नए कार्ड बनाने का आदेश दे दिया गया है।

परिवार के 5 सदस्यों के लिए पांच कार्ड
भारत सरकार के प्रावधानों के अनुसार, राज्य भर में “मां-अमृतम” और “मां-अमृतम वात्सल्य” योजनाओं के लाभार्थियों को पहले प्रति परिवार एक कार्ड दिया जाता था। इसके बजाय, प्रत्येक लाभार्थी को अब एक व्यक्तिगत पहचान पत्र दिया जाएगा। उदाहरण के लिए अगर एक परिवार में पांच लोग हैं तो इससे पहले पांच लोगों के बीच सिर्फ एक कार्ड होता था। अब परिवार के पांच सदस्यों को इलाज की सुविधा के लिए अलग-अलग कार्ड दिए जाएंगे।

‘मां वात्सल्य’ योजना का लाभ लेने की पात्रता
– मुख्यमंत्री अमृतम “माँ” योजना का लाभ गरीबी रेखा से नीचे (बीपीएल) रहने वाले परिवारों को लाभान्वित करती है।
– ‘माँ वात्सल्य कार्ड’ योजना ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों में सभी आशा बहनों को लाभान्वित करती है।
– 4 लाख रुपये या उससे कम वार्षिक आय वाले सभी मध्यम वर्गीय परिवार लाभ के पात्र हैं।
– मान्यता प्राप्त पत्रकारों को भी यह सुविधा मिलती है।
– वर्ग-3 और वर्ग-4 के सभी फिक्स वेतन वाले कर्मचारियों के लिए।
– वे सीनियर सिटिजंस, जिनके परिवार की वार्षिक आया 6.00 लाख या उससे कम है।

मां कार्ड की फाइल फोटो।

मां कार्ड की फाइल फोटो।

मां कार्ड बनवाने के लिए जरूरी दस्तावेज
– बीपीएल प्रमाणपत्र
– बारकोडेड राशन कार्ड
– बारकोड के साथ राशन कार्ड में शामिल व्यक्तियों के आधार कार्ड (अधिकतम पांच)
– वार्षिक पारिवारिक आय का प्रमाण-पत्र
– सूचना विभाग द्वारा जारी एक मान्यता प्राप्त पत्रकार के रूप में प्रमाण पत्र
– राज्य सरकार में नियत वेतनभोगी कर्मचारी के रूप में वर्ग-3 एवं वर्ग-4 के पद पर नियुक्ति पत्र
– नियत वेतनभोगी कर्मचारी के संबंधित विभाग/कार्यालय के प्रमुख द्वारा प्रमाणित फोटो सहित प्रमाण पत्र

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *