राजकोट में सामूहिक आत्महत्या: तीन चचेरे भाई-बहनों के शव कुएं से बरामद, तीनों मंगलवार की आधी रात भागे थे अपने-अपने घरों से

राजकोट में सामूहिक आत्महत्या: तीन चचेरे भाई-बहनों के शव कुएं से बरामद, तीनों मंगलवार की आधी रात भागे थे अपने-अपने घरों से

Spread the love

दोनों भाई बाइक से बहन पम्मी के घर पहुंचे थे और इसके बाद अचानक घर से लापता हो गए थे।

राजकोट जिले के वेजागाम गांव के एक कुएं से कल शाम को एक लड़की समेत तीन लोगों के शव बरामद किए गए थे। इनकी पहचान पवा बांभवा (16), डाया बांभवा (17) और पम्मी बांभवा (18) के रूप में हुई है। तीनों रिश्ते में चचेरे भाई-बहन हैं। तीनों ही मंगलवार की रात को अचानक अपने-अपने घरों से लापता हो गए थे। पुलिस इसे आत्महत्या का मामला मान रही है।

बहन को दोनों भाई अपने साथ ले गए थे
पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार राजकोट के मनहरपुरा में रहने वाला पबा और संतोषीनगर में रहने वाले चचेरे भाई डाया बाइक से तीसरे चाचा की बेटी पम्मी के घर आए थे। इसके बाद तीनों ही रात के करीब 12 बजे घर से लापता हो गए थे। पम्मी के घरवालों ने दोनों परिवारों को भी सूचना दी और रात को ही तीनों की तलाश शुरू कर दी गई थी। लेकिन, दूसरे दिन तीनों के शव पास ही के वेजागाम गांव के एक कुएं से बरामद हुए।

कुएं के पास ही तीनों के मोबाइल और जूते-चप्पल मिले। मोबाइल से तीनों की पहचान हुई।

कुएं के पास ही तीनों के मोबाइल और जूते-चप्पल मिले। मोबाइल से तीनों की पहचान हुई।

कुएं के पास से मिले मोबाइल और जूते-चप्पल
वेजागाम में रहने वाले कुछ ग्रामीणों ने गांव लौटते समय कुएं के पास जूते-चप्पल और मोबाइल पड़े देखे तो उन्हें शक हुआ। इसके बाद कुएं में झांककर देखा तो तीनों के शव तैरते नजर आए। गांववालों ने पुलिस को सूचना दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने मोबाइल की जांच की और इस तरह तीनों की पहचान हुई।

पति के साथ तीन दिन ही रही, आज ससुराल जाने वाली थी बहन
फगास गांव में रहने वाले पम्मी के पति मेहुल माटिया ने बताया कि पम्मी से उसकी शादी समाज के रीति-रिवाज के अनुसार पांच साल पहले हुई थी। इस दौरान पम्मी 13 साल की थी। इसलिए पम्मी को 18 साल के होने तक मायके में ही रहना था। पम्मी पिछले महीने की 5 तारीख को 18 साल की हुई थी। इसके बाद उसका गौना हुआ था। पति के साथ तीन दिन रहने के बाद उसकी पहली विदाई हुई थी और तबसे मायके में ही थी।

बहन पहली विदाई पर मायके आई थी और आज (3 जून) को उसे वापस ससुराल जाना था।

बहन पहली विदाई पर मायके आई थी और आज (3 जून) को उसे वापस ससुराल जाना था।

तीनों की आत्महत्या जांच का विषय: ACP
इस सनसनीखेज मामले की जांच कर रहे राजकोट के ACP प्रमोद दियोरा ने बताया कि वेजागाम से तीनों के शव बरामद हुए हैं। तीनों यहां बाइक से पहुंचे थे। मामला तो आत्महत्या का ही लग रहा है, लेकिन हम PM रिपोर्ट का इंतजार कर रहे हैं। जांच का विषय तो यही है कि तीनों के बीच आखिर क्या चल रहा था कि वे चुपचाप घर से भागे और आत्महत्या का कदम उठा लिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *