अलीगढ़ में अब तक 56 मौतें: पूरे जिले में जहरीली शराब का कहर, 49 शवों का हो चुका पोस्टमार्टम; आंकड़े छिपाने में जुटे DM और SSP, कई शवों का जबरन अंतिम संस्कार कराया

अलीगढ़ में अब तक 56 मौतें: पूरे जिले में जहरीली शराब का कहर, 49 शवों का हो चुका पोस्टमार्टम; आंकड़े छिपाने में जुटे DM और SSP, कई शवों का जबरन अंतिम संस्कार कराया

Spread the love

अलीगढ़ में जहरीली शराब से मरने वालों का आंकड़ा 56 पहुंच गया है। इनमें 49 शवों का पोस्टमार्टम हो चुका है। कई शवों का बगैर पोस्टमार्टम कराए अंतिम संस्कार भी करा दिया गया। ऐसे मृतकों के परिजनों ने डीएम कार्यालय का घेराव किया। अभी भी 10 से ज्यादा लोगों की हालत गंभीर भी है। ये जिले के अलग-अलग अस्पतालों में जिंदगी और मौत से जूझ रहे हैं। उधर, पोस्टमार्टम हाउस में पहुंची लाशों को देखने के बाद भी DM,SSP आंकड़ों को छिपाने में जुटे हुए हैं। डीएम चंद्रभूषण सिंह का कहना है कि इस शराब कांड में अब तक 25 लोगों की मौत हुई है। बाकि पोस्टमार्टम के लिए पहुंचे शव संदिग्ध हैं।

सांसद ने कहा- DM इन मौतों के जिम्मेदार हैं
अलीगढ़ में शराब से हुई मौतों पर BJP के सांसद सतीश गौतम ने अलीगढ़ के जिलाधिकारी पर गंभीर आरोप लगाया। कहा कि इन मौतों के लिए सीधे तौर पर डीएम चंद्रभूषण सिंह जिम्मेदार हैं। सांसद ने डीएम पर कड़ी कार्रवाई की मांग की है। उन्होंने कहा कि जहरीली शराब से जितनी भी मौतें हुई हैं सबके घर जाकर उनके परिजनों से मिलेंगे। सांसद ने सवाल पूछा कि जब डीएम अच्छे कामों की सराहना लेते हैं तो इसके लिए जिम्मेदार कैसे नहीं होंगे? जिलाधिकारी यह नहीं कह सकते कि मैं इसका जिम्मेदार नहीं हूं। जिलाधिकारी जिले का मालिक होता है तो सब कुछ उसकी नाक के नीचे हो रहा है।

अब तक क्या-क्या हुआ ?
अलीगढ़ में गुरुवार देर रात लोधा के करसुआ, खैर के अंडला व जवां के छेरत में लोगों ने अलग-अलग ठेकों से देसी शराब खरीदी थी। शराब पीने के बाद रात में मौतें होने लगी। शुक्रवार रात तक 27 लोगों की मौत हो गई थी। ऐसे में प्रशासन ने देसी शराब के ठेके बंद कर दिए, इसके बावजूद चोरी से शराब बिकी। पिसावा के शादीपुर व जट्टारी में लोगों ने शराब खरीदी। इन सभी ने रात में शराब पी, जिससे शनिवार सुबह शादीपुर में छह लोगों की मौत हो गई। इन सभी के परिजन ने चार शवों का बिना पोस्टमार्टम के ही अंतिम संस्कार कर दिया। इसके अलावा लोधा में 11, खैर में दो, जवां में दो, टप्पल में चार, गभाना में तीन व पिसावा में दो मौतें हुई हैं। इसके अलावा 6 से ज्यादा लोगों के शवों का बगैर पोस्टमार्टम कराया जा चुका है।

पोस्टमार्टम हाउस पर कई शवों की लाइन लगी रही।

पोस्टमार्टम हाउस पर कई शवों की लाइन लगी रही।

छोटे अधिकारियों को कर दिया सस्पेंड
शराबकांड में अब तक सरकार ने जिला आबकारी अधिकारी धीरज शर्मा, आबकारी निरीक्षक राजेश यादव, प्रधान सिपाही अशोक कुमार, निरीक्षक चंद्रप्रकाश यादव, इंस्पेक्टर लोधा अभय कुमार शर्मा, सिपाही रामराज राना को सस्पेंड कर दिया है।

जहरीली शराब का बोतल दिखाते गांव के लोग।

जहरीली शराब का बोतल दिखाते गांव के लोग।

मजिस्ट्रियल जांच शुरू हुई, एसडीएम, सीओ समेत 9 को नोटिस
शराब कांड की मजिस्ट्रियल जांच शुरू हो चुकी है। जांच कर रहे एडीएम प्रशासन ने डीपी पाल ने बताया कि शराब कांड के मामले में निलंबित हुए जिला आबकारी अधिकारी धीरज शर्मा, खैर एसडीएम अंजनि कुमार, एसडीएम कोल रंजीत सिंह, सीओ खैर शिवप्रताप सिंह, सीओ गभाना कर्मवारी सिंह, सीओ सिविल लाइन विशाल चौधरी, इंस्पेक्टर खैर प्रवेश कुमार, इंस्पेक्टर लोधा अभय शर्मा, इंस्पेक्टर जवां चंचल सिरोही को नोटिस जारी किया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *