पाइलिंग जांच एजेंसी का काम शुरू: एलिवेटेड कॉरिडोर की 90 फीट गहरी टेस्टिंग पाइल पर 800 टन का भार डालकर करेगी जांच, रिपोर्ट सही रही तो डालेंगे पिलर

पाइलिंग जांच एजेंसी का काम शुरू: एलिवेटेड कॉरिडोर की 90 फीट गहरी टेस्टिंग पाइल पर 800 टन का भार डालकर करेगी जांच, रिपोर्ट सही रही तो डालेंगे पिलर

Spread the love

गुरुवार को पाइलिंग जांच एजेंसी के अधिकारियों ने ड्रीम सिटी- भीमराड मेट्रो सेक्शन के लिए बने सबसे पहले टेस्टिंग पाइल का निरीक्षण किया।

सूरत मेट्रो रेल परियोजना लाइन-1 के 11.6 किमी एलिवेटेड रूट का काम अब दिखने लगा है। पाइलिंग जांच एजेंसी ने बताया कि टेस्टिंग पाइल की जांच की जाएगी। जांच रिपोर्ट आने पर इन्हीं पाइल पर मेट्रो के लंबे-लंबे पिलर खड़े किए जाएंगे। यह प्रक्रिया पूरी होने में लगभग 15 दिनों का वक्त लगेगा।

सूरत मेट्रो रुट में ड्रीम सिटी से कादरशाह की नाल तक कुल 11.6 किमी का रूट एलिवेटेड होगा, जबकि 6 किमी रूट अंडरग्राउंड है जो चौक बाजार से कपोदरा के बीच है। गुरूवार दोपहर मेट्रो परियोजना में पाइल जांच एजेंसी के तौर नियुक्त हुई सिविल टेक की टीम ने ड्रीम सिटी और भीमराड़ के बीच मेट्रो कॉरिडोर सेक्शन पर निरीक्षण किया। जहां मेट्रो परियोजना में तैयार सबसे पहली 90 गहरी टेस्टिंग पाइल का निरीक्षण किया और अब यहां भार झेलने की टेस्टिंग की जाएगी।

कुल 19 टेस्टिंग पाइल तैयार | पाइल जांच एजेंसी सिविल टेक के अधिकारियों ने बताया कि सूरत मेट्रो के एलिवेटेड रूट पर कुल 15 हाइड्रोलिक रिंग मशीन को लगाया जा चुका है जिससे और 19 पाइलिंग किए जा रहे हैं। भार झेलने की रिपोर्ट आने के बाद सभी पर पिलर बनने शुरू होंगे।

सूरत मेट्रो परियोजना के एलिवेटेड रूट के सबसे पहले 90 फीट गहरी टेस्टिंग पाइल की जांच करेंगे। इससे पहले निरीक्षण कर लिया है। अब वजन रखे जाएंगे जिसके बाद इसकी रिपोर्ट भेजी जाएगी और फिर जीएमआरसी के अधिकारी यहां पहुंचेंगे। उनकी अनुमति के बाद इनपर मेट्रो के बड़े पिलर बनने शुरू हो जाएंगे। लगभग 15 दिन का वक्त लगेगा इस प्रक्रिया में।
-आर वी प्रजापति, एमई (स्ट्रक्चर) सिविल टेक

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *