Photos में टूरिज्म पर यास का कहर: तहस-नहस हुआ लाखों टूरिस्ट का पसंदीदा स्पॉट दीघा, 124 साल पुराने बेलूर मठ में घुसा नदी का पानी

Photos में टूरिज्म पर यास का कहर: तहस-नहस हुआ लाखों टूरिस्ट का पसंदीदा स्पॉट दीघा, 124 साल पुराने बेलूर मठ में घुसा नदी का पानी

Spread the love

बड़े-बड़े रिसॉर्ट, खूबसूरत बीच, दुनियाभर से आए पर्यटकों की टोली और देर रात तक चहलकदमी करते लोग… पश्चिम बंगाल के पूर्वी मेदिनीपुर जिले के दीघा में आम दिन ऐसे ही होते हैं। यहां हर साल दुनिया के कोने-कोने से लाखों लोग घूमने आते हैं। कुछ दिनों पहले तक ये बेहद खूबसूरत पर्यटन स्थल हुआ करता था, लेकिन बुधवार को आए यास तूफान ने इस टाउन को तहस-नहस कर दिया। यहां के बीच में अब टूटा हुआ फुटपाथ और उखड़े हुए पेड़ बचे हैं। कहीं होटल टूट फूट गए हैं तो कहीं रिसॉर्ट में घुसा समंदर का पानी आधा सामान ही बहाकर ले गया है।

दीघा के लोगों का कहना है कि उन्होंने ऐसा मंजर जिंदगी में कभी नहीं देखा। टूरिज्म इंडस्ट्री से जुड़े लोगों के सामने रोजी-रोटी का संकट खड़ा हो गया है। अब उन्हें शुक्रवार को दौरे पर आने वालीं मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से ही कुछ उम्मीद है।

ऐसा ही हाल हावड़ा जिले के विश्व प्रसिद्ध रामकृष्ण परमहंस और स्वामी विवेकानंद आश्रम बेलूर मठ का है। तेज बारिश से हावड़ा की हुगली नदी में आई बाढ़ का पानी आश्रम परिसर में घुस गया है। इससे कोलकाता पोर्ट ट्रस्ट की तरफ से बनाई गई जेटी को भी नुकसान पहुंचा है। तूफान से पश्चिम बंगाल और ओडिशा के 20 लाख लोग प्रभावित हुए हैं।

ये फोटो दीघा टूरिस्ट स्पॉट दीघा में यास तूफान से बर्बाद हुई एक इमारत की है।

ये दीघा का बीच है। तूफान आने से पहले तक ये बीच बेहद खूबसूरत हुआ करता था। समुद्र में आई ऊंची लहरों ने बीच के किनारे रखे भारी-भारी पत्थरों को दूर फेंक दिया है।

दीघा बीच के किनारे पर पर्यटकों के बैठने के लिए ये पट्‌टी बनाई गई थी, जो तूफान की वजह से टूट गई है।

दीघा की होटलों में ठहरने वाले पर्यटक इस फुटपाथ पर सुबह-सुबह जॉगिंग किया करते थे। यास तूफान ने इसे तहस-नहस कर दिया है।

तूफान से हुई बर्बादी के बाद हुए नुकसान का मुआयन करते स्थानीय प्रशासन के अधिकारी।

फोटो कोलकाता के हावड़ा में बने बेलूर मठ की है। ये जेटी कोलकाता पोर्ट ट्रस्ट की तरफ से बनाई गई थी, जिसे तूफान से काफी नुकसान पहुंचा है।

1897 में स्वामी विवेकानंद ने बेलूर मठ की स्थापना की थी। तूफान की वजह से इसके परिसर में पानी भर गया है।

फोटो कोलकाता के हावड़ा ब्रिज की है। तूफान के साथ हुई बारिश के कारण नदी पर बने इस ब्रिज के पास रेलिंग तक पानी भर गया।

फोटो कोलकाता के हावड़ा ब्रिज की है। तूफान के साथ हुई बारिश के कारण नदी पर बने इस ब्रिज के पास रेलिंग तक पानी भर गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *