टूलकिट कंट्रोवर्सी में अब अमेरिका की एंट्री: दिल्ली पुलिस के नोटिस के बाद ट्विटर के अमेरिकी अफसर एक्टिव, कंपनी बाइडेन सरकार के पास भी जा सकती है

टूलकिट कंट्रोवर्सी में अब अमेरिका की एंट्री: दिल्ली पुलिस के नोटिस के बाद ट्विटर के अमेरिकी अफसर एक्टिव, कंपनी बाइडेन सरकार के पास भी जा सकती है

Spread the love

टूलकिट केस में ट्विटर इंडिया को दिल्ली पुिलस के नोटिस के बाद सोशल मीडिया कंपनी का अमेरिकी हेडक्वार्टर एक्टिव हो गया है। दिल्ली पुलिस के अफसर सोमवार को ट्विटर के दफ्तर पहुंचे थे। इसके बाद ट्विटर ने अपने ग्लोबल डिप्टी जनरल काउंसिल और लीगल वीपी जिम बेकर को ये मामला सौंपा है। बेकर अमेरिकी जांच एजेंसी एफबीआई में भी काम कर चुके हैं।

सूत्रों के हवाले से टाइम्स ऑफ इंडिया ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि ट्विटर टूलकिट मामले को लेकर अमेरिकी सरकार के पास भी जा सकती है। सूत्रों ने कहा कि केवल और केवल एक अच्छी बात है कि ट्विटर इंडिया का दफ्तर कोरोना के बिगड़ते हालात की वजह से बंद है और अब अमेरिकी हेडक्वार्टर ने इस मामले में दखल दिया है। ट्विटर हेडक्वार्टर लगातार भारत स्थित दफ्तर के संपर्क में है।

नोटिस के बाद ट्विटर के हेडक्वार्टर में तनाव
भाजपा नेताओं की पोस्ट को मैनीपुलेटेड मीडिया (तोड़-मरोड़कर पेश किया गया मीडिया) शब्द से टैग करने के बाद से ही ट्विटर केंद्र सरकार के निशाने पर है। अब दिल्ली पुलिस टूलकिट जांच को लेकर ट्विटर के दिल्ली और गुड़गांव स्थित दफ्तरों पर भी गई है। सूत्रों ने बताया कि पुलिस के नोटिस देने के बाद ट्विटर हेडक्वार्टर में तनाव का माहौल है। पुलिस के एक्शन की जानकारी तत्काल हेडक्वार्टर को दी गई, उस वक्त जब अमेरिका में सुबह भी नहीं हो पाई थी।

दिल्ली पुलिस ने कहा- ट्विटर का जवाब चाहिए
दिल्ली पुिलस की स्पेशल सेल टूलकिट और मैनीपुलेटेड मीडिया मामले की जांच कर रही है। दिल्ली पुिलस ने कहा कि हम जिस शिकायत की जांच कर रहे हैं, उसमें हमें ट्विटर का स्पष्टीकरण चाहिए। हमें लगता है कि ट्विटर के पास कुछ जानकारियां है, जो हमें नहीं पता हैं। ट्विटर इन्हें क्लासिफाईड बता रहा है, लेकिन हमारी जांच के लिए ये जरूरी हैं। हम सच जानना चाहते हैं।

टूलकिट और मैनीपुलेटेड मीडिया कंट्रोवर्सी के हाईलाइट्स

  • 18 मई: भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने एक स्क्रीन शॉट शेयर किया। इसे उन्होंने कांग्रेस की टूलकिट बताया। उन्होंने कहा कि इस टूलकिट के जरिए कांग्रेस कोरोना मैनेजमेंट को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की छवि को धूमिल करना चाहती है। कांग्रेस ने तुरंत इसका विरोध किया। कहा कि कथित टूलकिट फेक है और स्क्रीनशॉट में फर्जी दस्तावेजों का इस्तेमाल किया गया है।
  • 20 मई: ट्विटर ने पात्रा के ट्वीट पर मैनीपुलेटेड मीडिया टैग लगा दिया। इसके अलावा लेखक शेफाली वैद्य की पोस्ट को भी इसी तरह टैग किया गया।
  • 21 मई: भाजपा के विनय सहस्त्रबुद्धे, प्रीति गांधी, सुनील देवधर, चारु प्रज्ञा, कुलजीत सिंह चहल की पोस्ट को भी मैनीपुलेटेड मीडिया की-वर्ड से टैग कर दिया।
  • 22 मई: केंद्र सरकार ने ट्विटर को हिदायत दी कि इस तरह की टैगिंग को हटाए। सरकार ने कहा कि टूलकिट मामले की जांच की जा रही है और इस तरह की टैगिंग से ट्विटर जांच से पहले अपना फैसला सुना रहा है।
  • 24 मई: दिल्ली पुलिस ने ट्विटर इंडिया एमडी मनीष माहेश्वरी को नोटिस भेजा। उनसे टूलकिट मामले से जुड़े दस्तावेज लेकर स्पेशल सेल के दफ्तर में मौजूद रहने को कहा गया है। उन्हें 22 मई को भी पुलिस के सामने जाना था, पर माहेश्वरी ने यह कहकर पुलिस के दफ्तर जाने की इनकार कर दिया कि वो इस मामले में अथॉरिटी नहीं हैं।
  • 25 मई: ट्विटर इंडिया को नोटिस भेजे जाने की सूचना तड़के अमेरिकी हेडक्वार्टर भेजी गई। ट्विटर ने अपने सीनियर अफसर को इस मामले में इन्वॉल्व किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *