अब ब्लैक फंगस का-रोना: 15 राज्यों में अब तक 9320 मामले सामने आए, 235 मौतें; 9 राज्यों ने इसे महामारी घोषित किया

अब ब्लैक फंगस का-रोना: 15 राज्यों में अब तक 9320 मामले सामने आए, 235 मौतें; 9 राज्यों ने इसे महामारी घोषित किया

Spread the love

कोरोना के बीच म्यूकर माइकोसिस यानी ब्लैक फंगस खतरनाक होता जा रहा है। गुजरात, महाराष्ट्र, राजस्थान, मध्यप्रदेश और उत्तर प्रदेश समेत 15 राज्यों में ही अब तक ब्लैक फंगस के 9,320 मामले सामने आ चुके हैं। वहीं 235 लोगों की मौत हो चुकी है। सबसे ज्यादा 5000 हजार मामले तो अकेले गुजरात में ही सामने आए हैं। इस संक्रमण के चलते कुछ मरीजों की आंख तक निकालनी पड़ रही है।

इन 15 राज्यों में ये है स्थिति

राज्य केस मौतें
गुजरात 5000 90
महाराष्ट्र 1500 90
राजस्थान 700 जानकारी नहीं
मध्य प्रदेश 700 31
हरियाणा 316 8
उत्तर प्रदेश 300 8
दिल्ली 300 1
बिहार 117 2
छत्तीसगढ़ 101 1
कर्नाटक 97 1
तेलांगना 80 जानकारी नहीं
उत्तराखंड 46 3
चंडीगढ़ 27 जानकारी नहीं
पुडुचेरी 20 जानकारी नहीं
झारखंड 16 जानकारी नहीं

अब तक 9 राज्यों में ब्लैक फंगस महामारी घोषित
ब्लैक फंगस को हरियाणा ने सबसे पहले महामारी घोषित किया था। उसके बाद राजस्थान ने भी इस संक्रमण को महामारी एक्ट में शामिल कर लिया। फिर केंद्र सरकार ने भी सभी राज्यों के कहा कि ब्लैक फंगस को पेन्डेमिक एक्ट के तहत नोटिफाई किया जाए। इसके बाद उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, गुजरात, चंडीगढ़, हिमाचल प्रदेश, तेलांगना और तमिलनाडु भी ब्लैक संक्रमण को महामारी घोषित कर चुके हैं।

गुजरात में पहली बार 15 साल के किशोर को ब्लैग फंगस हुआ
अहमदाबाद में कोरोना से उबरे 15 साल के किशोर में ब्लैक फंगस का संक्रमण मिला है। उसका ऑपरेशन करना पड़ा। 4 घंटे चले ऑपरेशन के बाद किशोर संक्रमण मुक्त हो गया। डॉ. अभिषेक बंसल ने बताया कि राज्य में किसी किशोर में म्यूकर माइकोसिस का यह पहला केस है। ऑपरेशन से उसके तालू और साइड के दांत निकालने पड़े।

एक्सपर्ट की सलाह- ब्लैक फंगस से बचने के लिए डायबिटीड कंट्रोल में रखें
देश के कई राज्यों में ब्लैक फंगस के केस सामने आए हैं। हालांकि, यह संक्रमण शुगर के मरीजों में ज्यादा देखा जा रहा है। इसी को लेकर दिल्ली एम्स के निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया और मेदांता अस्पताल के चेयरमैन डॉ. नरेश त्रेहन ने शुक्रवार को कई अहम जानकारियां दीं।

  • डॉ. गुलेरिया ने कहा कि ब्लैक फंगस से बचाव के लिए कुछ बातों का विशेष ध्यान रखना चाहिए। मरीजों को डॉक्टर्स की सलाह पर ही स्टेरॉयड दिया जाना चाहिए। साथ ही स्टेरॉयड की हल्की और मीडियम डोज ही देनी चाहिए। अगर कोई लंबे समय से स्टेरॉयड ले रहा है, तो डायबिटीज जैसी समस्या आ सकती है। ऐसे में फंगल इंफेक्शन का खतरा बढ़ जाता है।
  • मेदांता के चेयरमैन डॉ. नरेश त्रेहन ने बताया कि नाक में दर्द, जकड़न, गाल पर सूजन, मुंह के अंदर फंगस पैच, आंख की पलक में सूजन, आंख में दर्द या रोशनी कम होना और चेहरे के किसी भाग पर सूजन जैसे लक्षण आते हैं, तो तुरंत ट्रीटमेंट की जरूरत होती है। उन्होंने कहा कि ब्लैक फंगस को काबू करने का एक ही रास्ता है, स्टेरॉयड का सही तरीके से इस्तेमाल करें और डायबिटीज को कंट्रोल में रखें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *